HOME

                                                                                                                   कन्जक्तिवाइतिस

                  

       मोटे तौर पर आँख की भीतरी भाग की झिल्ली सूजन को नेत्र स्लेश्मला -शोथ (कन्जक्तिवाइतिस )कहा जाता है ।स्लेश्मला अथवा कन्जक्तिवा आँख के भीतरी भाग की बहुत ही नाज़ुक स्लेश्मल झिल्ली को जो पलक के अंदरूनी भाग को पूरी तरह ढके रहती है तथा कोर्निया (स्वेत मंडल यानी आँख की पुतली की रक्षा करने वाला सफ़ेद भाग )से जुडी रहती है ,कहा जाता है .

आइए जानते हैं कि कैसे बचें इस घातक बीमारी से-

 आॅखों को सादे पानी से हर एक से दो घण्टे में धोएँ।

 रोगी द्वारा उपयोग में लाइ गयी वस्तुएं जैसे, टाॅवल, नेपकीन, कपड़े घर के दूसरे
    सदस्य  उपयोग न करें।

 रोगी को अत्याधिक भीड़ वाली जगह में न ले जाए। इससे स्वस्थ्य व्यक्ति भी
    संक्रमित हो सकते है।

चिकन पॉक्स >> कन्जक्तिवाइतिस >> उच्च रक्तचाप >> कोलेस्ट्रॉल नियंत्रण आहार >> Proper diet >> सन स्ट्रोक .

 

हम से होम्योपैथिक उपचार की जरूरत मरीजों - दमा, गठिया, आत्मकेंद्रित, बांझपन, PCOD, दूध एलर्जी, IHD, एआर, एमआर, यूके, सिर दर्द, अनिद्रा आदि जैसे कोई पुरानी बीमारी, के लिए
 

<meta name="msvalidate.01" content="" /><meta id="MetaDescription" name="DESCRIPTION" content="Doctor/Medical Specialists with specialisation in HOMEOPATHY in RAIPUR" /><meta id="MetaKeywords" name="KEYWORDS" content="Homeopathy doctor in RAIPUR, , Bestdoctor in RAIPUR" /><meta name="googlebot" content="INDEX, FOLLOW" /><meta name="YahooSeeker" content="INDEX, FOLLOW" /><meta name="msnbot" content="INDEX, FOLLOW" /><meta name="DISTRIBUTION" content="GLOBAL" /><meta name="ROBOTS" content="INDEX,FOLLOW" /><meta name="REVISIT-AFTER" content="1 DAYS" /><meta name="RATING" content="GENERAL" /><meta id="MetaGenerator"name="GENERATOR" content="DotNetNuke " /><meta http-equiv="PAGE-ENTER" content="RevealTrans(Duration=0,Transition=1)" /><metaname="viewport" content="width=device-width, maximum-scale=1.0, minimum-scale=1.0" /><meta http-equiv="X-UA-Compatible"content="IE=EmulateIE9" />